जज़्बा

Success Story Of Tun Tun : टुनटुन ऐसे बनी थी पहली महिला कॉमेडियन मां बाप और भाई की हत्या के बाद

Success Story Of Tun Tun : फिल्म इंडस्ट्री में हर कोई कलाकार अपना नाम बनाने और कमाने के लिए ही आता है। किसी किसी को अपना नाम बनाने में पूरी उम्र तक निकल जाती है और कई सुपरस्टार ऐसे बन कर भी भरते हैं जिन्हें बहुत सारे संघर्ष का सामना करना पड़ा था और इनका अंतिम समय भी काफी दर्दनाक रहा था।

आज हम आपसे बात करने जा रहे हैं उमा देवी खत्री टुनटुन के बारे में जिन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में अपना एक बड़ा नाम बनाया है, परंतु उन्होंने अपनी जिंदगी में काफी संघर्ष भी देखा है। सबसे पहले माता पिता की मौत देखी इसके बाद भाई की हत्या के बाद उन्हें नौकरानी की तरह काम करना पड़ा और बहुत सारी मुश्किलों का भी सामना करना पड़ा।

Success Story Of Tun Tun

Success Story Of Tun Tun : सबसे पहले सिंगर बनी

11 जुलाई 1923 को उत्तर प्रदेश के अमरोहा जिले में उमा देवी का जन्म हुआ था। उमा देवी सबसे पहले सिंगर बनी और फिर उन्होंने कॉमेडी में अपना हाथ अजमाया। जिसके बाद वह एक बड़ा सितारा बन गई बचपन से ही उमा देवी के घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी।

उमा देवी ने एक इंटरव्यू में बताया भी था कि मुझे याद नहीं कि मेरे माता पिता कौन है वह कैसे दिखते थे मैं केवल दो या ढाई साल की थी जब उनका निधन हो गया था। मेरा 8 या 9 साल का भाई था जिसका नाम हरि था मुझे याद है उस समय हम अलीपुर नाम के गांव में रहते थे और एक दिन मेरे भाई की हत्या कर दी गई थी, और मुझे दो वक्त के खाने के लिए अपने ही रिश्तेदारों के घर में नौकरानी का काम करना पड़ा था।

जब मैं उनके जुल्म से दुखी हो गई तब मैं चकमा देकर मुंबई भाग आई और यहां पर गाने का ऑडिशन दिया। 1986 में फिल्म वामीका आजरा में उन्हें गाने का मौका मिला था। इसके बाद उन्होंने बहुत सारे गाने गाए थे जिनसे उन्हें अच्छी पहचान मिलने लगी थी।

Success Story Of Tun Tun : दिलीप कुमार की बड़ी फैन

बहुत सारे गाने के बाद उन्होंने एक्टिंग की दुनिया में अपना हाथ आजमाया और उनकी कॉमेडी काफी पसंद की गई। उमा देवी दिलीप कुमार की बड़ी फैन इसीलिए उन्होंने 1950 में रिलीज हुई फिल्म बाबुल में दिलीप कुमार के साथ काम किया। इसके बाद उन्हें टुनटुन के नाम से पहचाना जाने लगा। 30 नवंबर 2003 को इस दुनिया से वह रुखसत हो गई। आपकी जानकारी के लिए बता दें कि कुल मिलाकर उमा देवी ने 198 फिल्मों में काम किया है जिसमें हिंदी उर्दू सभी फिल्में मौजूद हैं।

Also Read : Aamir Qutub Success Story : कभी किया अखबार बांटने का काम आज ऑस्ट्रेलिया में है 10 करोड़ की कंपनी

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button