Sandeep Soni : कानपुर में एक बढ़ई ने 8 महीनों की मेहनत से तैयार की लकड़ी से हनुमान चालीसा

Sandeep Soni

Sandeep Soni : क्या जानते हैं दुनिया में लोगों के अंदर एक से बढ़कर एक कला कूट-कूट कर भरी हुई है। अगर आपके अंदर कला है तो आप किसी के आगे नहीं झुक सकते हैं, इसीलिए आपके अंदर हर चीज का हुनर होना बहुत ही जरूरी है, जो इंसान अपना हुनर दिखाता है वह जीवन में कठिन परिश्रम करके जितना चाहे उतना पैसा कमा सकता है।

आज सोशल मीडिया एक ऐसा प्लेटफॉर्म है जहां पर आप अपनी मेहनत और कला दिखा सकते हैं और वहां पर आप की कला को सराहा भी जाता है। इसके जरिये आप लाखों रुपए महीना भी कमा सकते हैं। आज के इस आर्टिकल में हम आपको एक ऐसे व्यक्ति के बारे में बताने जा रहे हैं जिसने अपने हाथों की कला को एक लकड़ी के बोर्ड पर दिखाया है और इसके जरिए ढेर सारी शोहरत और दौलत भी कमाई है।

Sandeep Soni

Sandeep Soni : संदीप सोनी ने इस काम में कुछ अलग ही महारत हासिल की

उत्तर प्रदेश कानपुर जिले के निवासी संदीप सोनी अपनी कला के लिए जाने जाते हैं। संदीप सोनी काम से एक बढ़ई है। वैसे तो वह लकड़ी के फर्नीचर और तरह-तरह की चीजें बनाते हैं परंतु संदीप सोनी ने इस काम में कुछ अलग ही महारत हासिल की है।

संदीप सोनी (Sandeep Soni) ने अपनी कला के चलते लकड़ी पर हनुमान चालीसा और हिंदू ग्रंथ भगवत गीता जैसी चीजों को भी लकड़ी के बोर्ड पर लिखकर दिखाया है। पिछले 8 महीनों में हनुमान चालीसा को एक लकड़ी के बोर्ड पर लिखा और वह चाहते हैं कि वह अपने शुभ हाथों से इस हनुमान चालीसा को यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को उपहार में दे।

संदीप सोनी (Sandeep Soni) लकड़ी के गत्ते पर सकैप की सहायता से संपूर्ण हनुमान चालीसा लिखी। हनुमान चालीसा को लिखने में बहुत ही ज्यादा समय जाता है। इससे पहले संदीप सोनी ने श्रीमद्भागवत गीता भी इन्हीं लकड़ी के गत्ते पर लिखी थी। श्रीमद भगवत गीता का वजन करीब 42 किलो है और इसमें 37 लकड़ी के कार्डबोर्ड का इस्तेमाल किया गया है। इसमें 18 अध्याय और 706 श्लोक लिखे गए हैं। इससे श्रीमद् भागवत कथा को इस कलाकार बढ़ाई ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भेंट किया है।

Also Read : मेहनत के दम पर DVC कर्मी की बेटी ने पाई बड़ी सफलता, माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में मिला 51 लाख का पैकेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *