Mother Pull Bullock Cart : अपनी बेटी का पेट पालने के लिए मां बैलगाड़ी खींचने पर हुई मजबूर

Mother Pull Bullock Cart

Mother Pull Bullock Cart : माता पिता अपने बच्चों की परवरिश करने के लिए सब काम करने को तैयार हो जाते हैं। मां खुद भूखी रह लेती है परंतु अपने बच्चों को पेट भर खाना जरूर खिलाती है। भले ही पिता के जूते घिस जाएं लेकिन अपने बच्चों को नए जूते जरूर पहनाते हैं। बहुत सारे कष्ट झेलने के बाद  माता-पिता अपने बच्चों को पालते हैं। ऐसा ही जिला राजगढ़ मध्य प्रदेश से एक दिल तोड़ देने वाला वीडियो सामने आया है।

हाल ही में सोशल मीडिया पर एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है। इस वीडियो में महिला ने बैलगाड़ी पर समान लादा हुआ है और उस पर अपनी बच्ची को बैठाया हुआ है यह बेबस मां बैलगाड़ी को सड़क पर खुद अपने हाथों से खींची हुई दिखाई दे रही है बीते मंगलवार को राजगढ़ की सड़क पर इस महिला को देखा गया था।

Mother Pull Bullock Cart

Mother Pull Bullock Cart : बैलगाड़ी को बाइक से बांधकर सागरपुर पहुंचाया

एक खबर के अनुसार महिला राजगढ़ स्तिथ पचोर से 15 किलोमीटर दूर आ चुकी थी। रास्ते में दो बाइक सवार महिला से उसकी हालत का कारण पूछ रहे थे। महिला ने रोते हुए बताया कि मैं 15 किलोमीटर दूर आ रही है और अभी 15 किलोमीटर का और सफर तय करना है। बाइक सवारों ने इंसानियत दिखाते हुए उस महिला की मदद की और बैलगाड़ी को बाइक से बांधकर सागरपुर तक पहुंचाया।

उस महिला का नाम लक्ष्मी बताया जा रहा है और वह सागरपुर की रहने वाली है। लक्ष्मी ने बताया कि 2 साल पहले उसके पति की मौत हो गई थी और उनकी हालत आज इतनी खराब हो चुकी है कि वह दो वक्त का खाना भी नहीं जुटा पा रहे हैं। लक्ष्मी ने बताया कि उनके चार छोटे-छोटे बच्चे हैं और उनके पास रहने के लिए कोई घर भी नहीं है। घर को चलाने के लिए उनके सभी बच्चे मेहनत मजदूरी करते हैं।

लक्ष्मी का अस्थाई घर ऐसा है कि वह तेज बरसात में घर की छत उड़ जाती है और सर्दियों में ठंडी हवा के थपेड़े तक लगते हैं ऐसे में लक्ष्मी ने बताया कि उन्हें विधवा की पेंशन भी नहीं मिलती है पेट पालने के लिए वह बैलगाड़ी खींचने पर मजबूर है.

Also Read : Mother Retirement : मां के रिटायरमेंट पर बेटे ने हेलिकॉप्टर से करवायी फूलों की वर्षा, करवाई जॉय राइडिंग, दिये कई अहम तौहफे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *