Trending: रास्ते में पड़े अखबार ने ऑटो चालक को बनाया किसान, आँवले की खेती शुरू कार्य जल्दी ही बन गया करोड़पति

Trending

Trending: इंसान की किस्मत से ज्यादा उसकी मेहनत रंग लाती है. लाखों लोगों में किसी एक आदमी की किस्मत चमक सकती है, लेकिन मेहनत के दम पर हार कोई आदमी अपनी किस्मत चमका सकता है.

आज हम आपको एक ऐसे ही ऑटो ड्राइवर की कहानी बताने जा रहे है, जिसकी किस्मत एक अखबार ने बदल दी. लेकिन असली फल उसे अपनी मेहनत करने पर ही मिला है. आइए जानते है राजस्थान के रहने वाले इस ऑटो ड्राइवर की कहानी…

Trending

Trending: छोटी सी जमीन के टुकड़े से बना करोड़पति

हम आज जो आपको कहानी बताने जा रहे है वह राजस्थान के रहने वाले एक ऑटो चालक अमर सिंह की है. ऑटो के अलावा अमर सिंह के पासवर्ड एक छोटा सा जमीन का टुकड़ा भी था. दिन भर काम करने के बाद जो समय उनके पास बचता, उसमे वह इस छोटे से जमीन के टुकड़े पर खेती किया करते थे.

इनकी खेती का काम थोड़ा बहुत ही चलता था. उस दौरान इन्होने मात्र 1200 रूपये में 60 आँवले के पौधे खरीदे और उस जमीन के टुकड़े में लगा दिए. आज उन्ही कुछ आँवले के पौधों के कारण अमर सिंह सफलता की ऊंचाई को छू रहे है.

Trending

Trending: अखबार ने दिखाया रास्ता

राजस्थान के रहने वाले अमर सिंह आज 22 साल बाद आँवले के इन 60 पौधों 26 लाख रूपये कमा रहे है. अमर सिंह के पिताजी भी एक किसान ही थे. लेकिन साल 1977 में वह इन्हे छोड़कर इस दुनिया से चल बसे. जिस खेती से इनका घर का खर्चा चल जाता था अब वह भी बंद हो चुका था.

इसके बाद परिवार के पालन पोषण के लिए अमर सिंह ऑटो चलाने लग गए. लेकिन उनका मन ऑटो चलाने में बिलकुल नहीं लगता था. साल 1955 में जब वे एक बार अहमदाबाद अपने ससुराल गए तो यहां पर इन्हे एक दिन रस्ते में एक अखबार पड़ा हुआ मिला. इस अखबार के टुकड़े ने अमर सिंह की जिंदगी में चार चाँद लगा दिए थे.

Trending: आँवले के 60 पौधों ने बदली किस्मत

मीडिया रिपोर्ट्स में ये जानकारी मिली है कि इस अखबार में ही अमर सिंह ने आँवले की खेती के बारे में पढ़ा था. इस अखबार को पढ़ने के बाद उन्होंने मन ही मन ठान लिया था कि अब वह आंवले की खेती करेंगे. उन्होंने अपनी जमीन के टुकड़े पर 60 आंवले के पौधे लगा लिए.

Trending

इन्हीं पौधों के कारण आज अमर सिंह करोड़पति किसान बन चुके हैं. अमर सिंह की इस सफलता में ल्यूपिन ह्यूमन वेलफेयर एंड रिसर्च फाउंडेशन के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर सीताराम गुप्ता का बड़ा हाथ रहा है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *