जरा हटके

SDM : आपके क्षेत्र में डीएम की जितनी सैलरी है, उतनी होती है एसडीएम की पावर

SDM : सरकारी नौकरी बहुत रुतबे वाली नौकरी मानी जाती है आज हम एसडीएम के सेलेक्शन को लेकर उसके काम तक के बारे में पूरी जानकारी विस्तार से आपको देने जा रहे हैं एसडीएम का फुल फॉर्म सब डिविजनल मजिस्ट्रेट होता है मजिस्ट्रेट शब्द की वजह से किसी को तो यह लगता है कि एसडीएम न्यायालय से जुड़ा हुआ काम होता है लेकिन ऐसा सही में नहीं है डिवीजन स्तर पर डीएम जैसे अधिकार एसडीएम के पास में होते हैं राज्य प्रशासनिक सेवा की श्रेणी में एसडीएम का पद सबसे ऊंचा माना जाता है एसडीएम प्रमोशन पाकर डीएम और स्टेट गवर्नमेंट में सेक्रेटरी की पोस्ट पर पहुंच सकता है एसडीएम का कोई वर्किंग समय भी नहीं होता है। एसडीएम को ड्यूटी के लिए हमेशा तैनात रहना पड़ता है।

SDM

SDM : ऐसे होता है एसडीएम का सिलेक्शन

एसडीएम की भर्ती UPSC और राज्यों के लोक सेवा आयोग की परीक्षा पास करने वालों के लिए होती है। एसडीएम चुने जाने के बाद में मुख्य परीक्षक पीसीएस की होती है इस परीक्षा का आयोजन राज्य स्तर पर किया जाता है।

एसडीएम (SDM) को सरकारी आवास, सिक्योरिटी, नौकर, सरकार की तरफ से मिलने वाला वाहन, टेलीफोन कनेक्शन, मुफ्त बिजली, राज्य में ऑफिशियल यात्राओं के दौरान आवास की सुविधा, उच्च शिक्षा के लिए अवकाश, पेंशन आदि की सुविधाएं मिलती है। सैलरी की बात करें तो उनको पे बैंड 93000-34800 मैं ग्रेड पे 5400 के अनुसार सैलरी दी जाती है एसडीएम की शुरुआत में सैलरी ₹56000 तक होती है वही भत्ता आदि लगकर यह ज्यादा हो जाती है।

SDM : एसडीएम के प्रमुख काम

  • प्रशासनिक व न्यायिक कार्यों को देखना।
  • क्षेत्रीय विवादों का निपटारा व आपदा प्रबंधन को देखना।
  • राजस्व कार्यों में भूमि का रिकॉर्ड रखरखाव करना।
  • राजस्व मामलों का संचालन करना।
  • अतिक्रमण से जुड़े हुए मामलों को देखना
  • राज्य में लोकसभा विधानसभा के सदस्यों का चुनाव करवाना।
  • सार्वजनिक भूमि का संरक्षण भू पंजीकरण।
  • मैरिज रजिस्ट्रेशन करवाना ओबीसी एससी एसटी जन्म और निवास प्रमाण पत्र का कार्य भी एसडीएम का होता है।
  • एसडीएम विभिन्न प्रकार के रजिस्ट्रेशन कई तरह के लाइसेंस को भी जाती करने का काम करता है।
  • एसडीएम आपराधिक प्रक्रिया संहिता 1973 और कई अन्य नाबालिग कृतियों के तहत भी विभिन्न न्यायिक कार्यों को करता है।Also Read : क्या आप जानते हैं ट्रेन की आखिरी बोगी पर खींची हुई पीली लाइनों का क्या मतलब होता है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button