9 साल की भारतीय बच्ची की प्रतिभा देखकर लोग हुए कायल

भारतीय बच्ची

एप्पल के सीईओ टिम कुक से तारीफ मिलना बहुत ही बड़ी बात होती है क्योंकि यह लोगों के लिए सपना जैसा ही होता है। ऐसे में एक 9 साल की भारतीय बच्ची ने यह सपना सच कर दिखाया है और यह बहुत ही बड़ी गर्व की बात है। इस लड़की का दावा है कि वह सबसे कम उम्र की आईओएस एप डेवलपर बन गई है।

9 साल की हाना मोहम्मद रफीक वर्तमान में दुबई में रहती है। हाल ही में टीम कुक ने आईफोन के लिए आईओएस एप बनाने के लिए उनकी प्रशंसा की थी। टीम कुक को लिखे अपने शुरुआती पत्र में हाना मोहम्मद रफीक ने कहा कि उन्होंने कहानी सुनने वाला ऐप Hanas बनाया है जिससे माता-पिता बच्चों के लिए कहानियां रिकॉर्ड कर सकते हैं।

भारतीय बच्ची

ऐप बनाया गया था तब हांना केवल 8 वर्ष की थी

एप्पल के सीईओ ने कथित तौर पर ईमेल में अपने सॉफ्टवेयर और अन्य उपलब्धियों का वर्णन करने के बाद उनके ईमेल को रिप्लाई किया था। हाना द्वारा बनाए गए मुफ्त आईओएस एप में बच्चों के अनुकूल किससे बताए गए हैं। उन्होंने यह महसूस करने के बाद ऐप बनाने का फैसला किया था कि इस व्यस्त जीवन में कुछ माता पिता के पास अपने बच्चों के लिए बिल्कुल भी समय नहीं होता है जब यह ऐप बनाया गया था तब हांना केवल 8 वर्ष की थी।

एक ईमेल में हाना ने कहा था कि जब है केवल 5 वर्ष की थी। तब पहली बार कोडिंग से उनका परिचय हुआ। इससे ऐसा लगता है जैसे रहे ऐसा करने वाली दुनिया की सबसे कम उम्र के डेवलपर बन गई है। इस कार्यक्रम के लिए उन्होंने कोड की लगभग 10000 पंक्तियां भी लिखी थी। ईटी के एक रिपोर्ट के अनुसार टिम कुक ने इतनी कम उम्र में कई उत्कृष्ट उपलब्धियों के लिए उन्हें ईमेल भी किया और बधाई दी। उन्होंने यह भी कहा कि अगर वह ऐसा ही करती रही तो वह भविष्य में अविश्वसनीय चीजें हासिल कर पाएगी।

10 वर्षीय बहन लीना फातिमा उनकी कोडिंग शिक्षिका

उसके माता-पिता ने यह खुलासा किया कि हांना कि 10 वर्षीय बहन लीना फातिमा उनकी कोडिंग शिक्षिका है। अपने ईमेल में हाना ने कहा कि उसने अपने आप में किसी भी पूर्व निर्मित तृतीय पक्ष पुस्तकालयों कक्षाओं या कोड का उपयोग करने से परहेज किया है। उसने यह भी बताया कि अपने यूट्यूब वीडियोस के लिंक भी पोस्ट किए हैं। जब हाना के पिता मोहम्मद रफीक ने पहली बार टीम कुक का ईमेल देखा तो हाना सो रही थी। पिता ने उसे यह बात बताने के लिए जगाया वह फौरन उठकर बाथरूम में चली गई। उसे जगाने में आमतौर पर थोड़ा समय लगता है लेकिन इस बार ऐसा नहीं हुआ।

हाना और लीना दोनों बहने खुद से सीख कर कोडर बनी है। यह दोनों अपने माता-पिता से बहुत ही प्रेरित थी। लीना को उम्मीद है कि हांना आगे की पढ़ाई के लिए अमेरिका जाएगी। लीना ने लेहनास वेबसाइट बनाई है जो बच्चों को शब्दों रंग और जानवरों के बारे में सिखाती है।

Also Read : जानिए ऐसे खूबसूरत देशों के बारे में, जहाँ भारतीय को घूमने के लिए वीज़ा की जरूरत नही पड़ती

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *