जरा हटके

निवेश और रचनात्मकता का संगम सिद्धांत

दोस्तों, आज की पाॅस्ट में जानेगें कि निवेश और रचनात्मकता का संगम सिद्धांत क्या हैॆ what is confluence principle of investment & creativity ? 

“स्वयं में निवेश करना सबसे अच्छा निवेश होगा जो आप कभी भी करेंगे . ये सिर्फ आपका ही जीवन नहीं सुधारेगा , ये आपके आस -पास के लोगों का जीवन भी सुधार देगा.”    Warren buffett



                        Investment क्या है ?

INVESTMENT (इन्वेस्टमेंट) का अर्थ हिंदी में निवेश  या विनियोग  होता है और आज हम इस पोस्ट में जानेंगे निवेश का क्या मतलब होता है?

आर्थिक रूप से हम एक स्थान से दुसरे स्थान पर जाने की योजना बनाने को ही इन्वेस्टमेंट/विनियोग/निवेश कहा जाता है,

निवेश निहायत ही यानी व्यक्तिगत विषय है, और निवेश कोई उत्पाद या पद्धति नहीं बल्कि निवेश एक योजना है.

 

जॉन कीन्स ने कहा है “Investment as real investment and not financial investment”, “अर्थार्त इंवेस्टमेंट  सिर्फ एक वित्तीय निवेश न होकर एक असली निवेश है. निवेश का मुख्य लक्ष्य होता है संपत्ति और प्रतिभूतियों के मूल्य में वृद्धि या सम्पति और प्रतिभूतियों से लगातार लाभ प्राप्त करना.”

आप पढ़ रहे हैं : Confluence Principle of Investment & Creativity in Hindi निवेश और रचनात्मकता का संगम सिद्धांत

हम सभी लोग चार प्रकार से ही पैसे को प्राप्त करते हैं. जैसे –

 

1- As a Employee – एक कर्मचारी के रूप में,

 

जैसे – किसी भी बड़े से बड़े कंपनी का Employee या सरकारी ऑफिस का कर्मचारी, एक दैनिक वेतन वाला मजदूर होता है.

 

2- As a Self Employed – एक खुद के छोटे आफिस या दुकान के मालिक के रूप में,

 

जैसे  दुकानदार , छोटा बिजनेसमैन , या फिर डॉक्टर , वकील, CA,

 

3. As a Businessman – एक बिज़नसमैन के रूप मे,

 

जैसे  – एक बहुत बड़ी कंपनी का मालिक, जिसके पास एक ऐसा बिज़नस है जो सिस्टम पर काम करता है, और उसका मालिक वहा नहीं हो तो भी कंपनी बिल्कुल सही तरह से काम करती है.

Confluence Principle of Investment & Creativity in Hindi

4. As a Investor – एक निवेशक के रुपे में,

 

जैसे  – किसी भी तरह का निवेशक, जो किसी निवेश में पैसे लगाकर Income कमाता है,

 

यदि आप पहले दो काम कर रहे है तो आप दुनियां की 90% लोगो में आते हैं. जो Active income पर काम करते हैं. लेकिन आप 3 और 4  में से कोई एक कर रहे हैं तो आप दुनियाँ के 10% लोगो में आते है जो पूरी दुनियाँ को बदलने का दम रखते हैं. जो अपने काम से Passive income प्राप्त करते हैं. वो पैसो के लिए काम नहीं करते बल्कि पैसा उनके लिए काम करता है.

 जरूर पढ़ें : 10 बिजनेस Ideas – नारी भी बन सकती हैं व्यापारी

निवेश इस Financial world का वो कार्य है जिसमें अपने पैसे को ऐसी जगह लगाया जाता है जहां से और पैसा बनाया जा सके.

दोस्तों सिर्फ बैंक में पैसे जमा करना इंवेस्टमेंट नहीं होता है इन्वेस्टमेंट का अर्थ आपके पास जो पैसे हैं उन पैसों से पैसा और दूसरा पैसा यानी इनकम कमाना है.

अगर सीधे शब्दों में कहा जाए तो income प्राप्त करने के लिए अपने धन का उपयोग investment कहलाता है.

जब भी हम अपना धन इस मकसद से उपयोग में लाते हैं जिससे कि हमें future में income या लाभ प्राप्त हो तो धन का यह उपयोग investment कहलाता है.

 

“निवेश कोई प्रोडक्ट या सिस्टम नहीं बल्कि निवेश पूरी तरह से – Financial planning का नाम है.”

 

निवेश एक ऐसी योजना है, जो आपको आर्थिक रूप से एक जगह से दूसरी जगह तक लेकर जाती है,

निवेश निहायत ही यानी व्यक्तिगत विषय है, और निवेश कोई उत्पाद या पद्धति नहीं बल्कि निवेश एक योजना है,  और साथ ही निवेश एक ऐसी योजना को कहा जाता है जो आपको आर्थिक रूप से एक जगह से दूसरी जगह पहुचाने की योजना है, जहा आप आर्थिक रूप से पहुचना चाहते है,

 

“इसका मतलब है – निवेश और निवेश के साधन/प्रोडक्ट दो अलग अलग चीजे होती है.”

 

‘बारेन बफे’ कहते है कि “जोखिम तब होता है जब आपको पता नही होता है कि आप क्या कर रहे हैं.” Risk comes from not knowing what you’re doing.

 

अब हमे यह तो पता चल गया कि निवेश क्या है लेकिन अब यह कैसे पता करे कि हमे निवेश कैसे करना चाहिए ? तो चलिए जानते है कि हम निवेश कैसे करें ?

  • investment and confluence theory of creativity निवेश और रचनात्मकता का संगम सिद्धांत

आप पढ़ रहे हैं : Confluence Principle of Investment & Creativity in Hindi

दोस्तो,  Sternberg ने 1991 में investment and confluence theory को दो भागो में बाटा था.

 

1- Person centric approach – ऐसा व्यक्ति जो चीजो को खुद बनाता हैं. उसे अपने ऊपर अटूट विश्वास होता हैं. वह वही होता है जो वह करता हैं. और जो वह करता है उसमे उसका सर्वस्व लगा होता है तथा उसमे यह quality होती है. जैसे :

 

Intelligence

 

आपकी बुद्धीमता इस बात पर निर्भर करती है कि आप कैसा सोचते है ? आप कैसे माहोल में रहते हैं ? आप कैसे लोगो के साथ उठते बैठते हैं ? आपकी बुद्धीमता से ही यह तीन चीजे तय होती हैं.

 

1- Synthetic ( thinking out of box )

2- Analytical ( Selection power )

3- Practical ( Convencing power )

 

Knowledge

 

आप जो काम करने जा रहे है उसके बारे में जानकारी होना आपको सफल बनाती है. यदि आपको Particular बिषय में जानकारी नहीं है तो आपकी Creativity शून्य होगी. यदि आपकी जानकारी Too much है तो आपका Confidence अलग level का होगा.

 

Intellectual skills

 

आप जो भी पढ़ते या सुनते हैं उसे कितना सच मानते हैं?  किसी और के दृष्टिकोण से किसी चीज़ पर विचार करना आपको कितना आसान लगता है?  आप कितनी बार अपनी मान्यताओं और उन दलीलों को पहचानते हैं जो आप पढ़ते हैं?  बौद्धिक समस्याओं को हल करने में आप कितने अच्छे हैं?  आप अपने जीवन में आने वाली समस्याओं को कितनी आसानी से सुलझा लेते हैं?  आप कितनी बार किसी चीज़ को छोड़ देते हैं क्योंकि आप आगे का रास्ता नहीं देख सकते हैं? आपके लिए विभिन्न विचारों और अवधारणाओं के साथ आना कितना आसान है?  आप कितनी बार उपन्यास की संभावनाओं के बारे में सोचते हैं?  समूह में काम करते समय, आपके विचारों का उपयोग कितनी बार किया जाता है?  अपने काम के लिए एक स्वतंत्र और संसाधनपूर्ण दिशा विकसित करना कितना आसान है?

आप पढ़ रहे हैं : Confluence Principle of Investment & Creativity in Hindi

Personality

 

आपके अंदर का व्यक्तित्व विचारों, भावनाओं और व्यवहारों की विशेषता का प्रतिरूप है जो किसी व्यक्ति को अद्वितीय बनाते हैं. यह माना जाता है कि व्यक्तित्व व्यक्ति के भीतर से उठता है और जीवन भर काफी सुसंगत रहता है.

 

Motivation

 

प्रेरणा वह प्रक्रिया है जो लक्ष्य तक पहुँचाने में साहयक होती है. आपके व्यवहारों को मार्ग प्रदर्शित करती है, निर्देशित करती है, और आपमे अलख जलाए रखती है. यह वह कार्य है जिसके कारण आपको प्यास कम करने के लिए एक गिलास पानी मिल रहा है या ज्ञान प्राप्त करने के लिए पुस्तक पढ़ने को मिल रही है.

 

2- Context centric approch – यह वह व्यक्ति होते है जिन्हे किसी न किसी माध्यम की आवश्यकता पड़ती है. आप मार्केट को analyse करके अपनी extra creativity का use करके अपना काम शुरू कर सकते हैं.

creative investor कुछ नया नहीं सिर्फ buy lower and sell higher method पर काम करते हैं.

जैसे – किसी भी कम्पनी के शेअर कम Price पर खरीद लिये और जब उनकी Value बढ़ गई तो उन्हे High price पर बेच दिये.

यह बात तो सब जानते है लेकिन यह कैसे संभव हो सकता है ? इसके लिए आपके आस पास के माहौल का होना अति आवश्यक है. अर्थात :

Environment

आपकी creativity में environment अहम भूमिका निभाता है. यदि आपके आपके आस पास का माहौल negativity से charge है तो आपको positive way में बनाये रखना challenging work हो जाता है या फिर आपका प्रतिद्वंदी आपकी life के लिए खतरा बन जाता है. ऐसे माहौल में आपको अपने संयम तथा विवेक से काम करना चाहिए. ऐसे में आपको धीरे- धीरे छोटे कदम उठाने चाहिए.

 

“मैं 7 फुट के अवरोध को पार करने की नहीं सोचता: मैं 1 फुट का अवरोध ढूंढता हूँ जिसे मैं पार कर सकूँ.” I don’t look to jump over 7 foot bars. I look around for 1 foot bars that I…Warren buffet

जरूर पढ़ें : Best Tips For Communication Skills in Hindi

creative investor कुछ नया नही करते बल्कि वो चीजो को अलग तरह से करते हैं.

जैसे – Ola cabe को ले लीजिए, इनके पास इतनी गाड़ियाँ है कि यदि एक कतार में खड़ी कर दी जाये तो कश्मीर से कन्याकुमारी तक लाइन लग जायेगी लेकिन इनकी खुद की एक भी कार नहीं हैं. इसे कहते है Fly light business model. इस प्रकार के ढेर सारे Model है जैसे – Whatts app, amazon, facebook, google आदि. ऐसे business है जो अपनी सर्विस देकर profit earn करते हैं.

 

Creative business models में Investment cost बहुत कम होती है लेेकिन दिमाक बहुत लगाना पड़ता हैं. जब आपकी Investment cost कम होती है तो आपकी Maintenance cost भी कम आती हैं. क्योकी आपका Goods Volume बहुत कम हो जाता हैं. इसलिए आप कीमत पर ध्यान मत दीजिए. अपनी Value पर ध्यान दीजिए. अपने काम में creativity लाइये..बाजार में एक ही तरह की कई दुकाने होती है लेकिन भीड़ उसी दुकान पर होती है जहाँ पर लोगों के हिसाब से सहूलियत मिलती हैं. वह जो चाहते है आप वो दे रहे होते है तब लोग आपके पास आते हैं.

 

“कीमत वो है जो आप भुगतान करते हैं.मूल्य वो है जो आप पाते हैं.”Price is what you pay. Value is what you get. – Warren Buffett

 

यदि आप पाने के बारे में सोचते है तब आपको ज्यादा नहीं मिलता. जब आप लोगों को देने के बारे में अपने कदम बढ़ाते है तो लोग आपके पास दौड़कर आते हैंं. इसलिए आप अपने काम के द्वारा पैसो में खुशियाँ मत तलाशिये. बल्कि खुशियों के साथ अपने काम की शुरूआत कीजिए. फिर देखिये पैसा कैसे आपके पीछे पीछे भागेगा.

 

“केवल वही खरीदिये जिसे आप ख़ुशी के साथ अगले दस सालों तक होल्ड कर सकें.” Only buy something that you’d be perfectly happy to hold if the market shut down for 10 years. – Warren Buffett

आप पढ़ रहे हैं : Confluence Principle of Investment & Creativity in Hindi

दोस्तो ! कहने का तात्पर्य यह है कि आपकी decision making power ही यह तय करने की आजादी देती है कि आपको किस वक्त पर क्या निवेश करना है? यदि आप आर्थिक व जानकारी के तौर पर मजबूत है तो आप उसमे निवेश कीजिए. यदि आप आर्थिक तौर पर मजबूत नहीं है तो आप अपने आपको बौद्धिक तौर पर मजबूत कीजिए. अपने Skills को निखारिये.

 

उम्मीद करता हूँ दोस्तो ! आपको पाँस्ट पसंद आई होगी. आप अपनी राय हमे Merajazbaamail@gmail.Com पर जरूर भेजिए.  एक पाँस्ट को आप तक पहुँचाने में काफी मेहनत लगती है. इसलिए अपने दिल से कमेंट कीजिए. हमे अपने अनुभव साझा कीजिए. आपके आस पास का माहौल कैसा है? यदि आप हमारे साथ अपने अनुभव साझा करेगें तो हमारे साथ अन्य लोगों को भी खुशी मिलेगी. अगले पाँस्ट मे फिर मुलाकात होगी तब तक खुश रहिए…परिवार के साथ मिल झुलकर रहिए.

                                                     धन्यवाद !!

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button