जरा हटके

अप्रैल में Fool day नहीं Cool day मनायेंगे!

दोस्तों ! भले ही आज अंग्रेजी कैलैंडर का प्रचलन बहुत अधिक हो गया हो लेकिन उससे भारतीय कैलैंडर की महता कम नहीं हुई है. आज भी हम अपने व्रत-त्यौहार, महापुरुषों की जयंती-पुण्यतिथि, विवाह व अन्य शुभ कार्यों को करने के मुहूर्त आदि भारतीय कैलैंडर के अनुसार ही देखते हैं. इस दिन को महाराष्ट्र में गुड़ी पड़वा तो आंध्र प्रदेश में उगादी पर्व के रूप में भी मनाया जाता हैं. चैत्रशुक्ल प्रतिपदा से ही वासंती नवरात्र की शुरुआत भी होती है.

भारतीय कैलैंड़र के हिसाब से हमारे पूर्वज चैत्र मास शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को नवबर्ष के रूप में मनातें थें. जिसे आज हम अप्रैल Fool Day 😇 ( मूर्ख दिवस ) के रूप में  बड़ी खुशी के साथ मनातें हैं. इस बार अप्रैल महिने की 6 तारीख से चैत्र मास शुरू हो रहा हैं. लेकिन यह हमारा दुर्भाग्य ही हैॆ कि हमने अपने ही रिति-रिवाज बड़े आसानी से भूला दियें.
हमारे पूर्वजों ने जो भी त्यौहार हमें सौपें हैं, उनकें पीछे बहुत बड़े सदेंश छिपे हैं.
जैसे कि नया साल चैत्र में मनाने का कारण प्रकृति से जुड़ना हैं. चैत्र के महिनें में चारों तरफ हरियाली छाई होती हैं. पतझण के बाद वृक्ष भी नई पत्तियों को धारण कर पृथ्वी को पल्लवित कर रहें होतें हैं. गेंहूँ , जौ पकने की तैयारी कर रहें होते हैं.
प्रकृति अपना श्रगांर कर पृथ्वी को पुलकित करती हैं. इस प्रकार चारों ओर प्रकृति खुद में नविनीकरण करती हैं. आज भी बही खाते 1 अप्रैल से नये बनायें जाने की परम्परा हैं इसलिए हमारे पूर्वजों ने नया साल चैत्र में मनाना आरम्भ किया था. लेकिन अग्रेजों ने 1 जनवरी को नया साल थोपने के लिए इसे मूर्खो का त्यौहार कहँकर हमारे पूर्वजों का अपमान किया था. उसके बाद धीरे-धीरे हमारें अदंर रिति-रिवाजों के प्रति हीन-भावनाएं भरी जानें लगी.  इसी का यह परिणाम हैं कि हम अपने 😀Cool day  को 😇Fool day  के रूप में मनातें आ रहें हैं.
अबआप ही तय कीजिए कि मूर्ख कौन हैं ? अजांने में 😇Fool day का शिकार होने वाला या फिर सहीं जानकारी के अभाव में मूर्ख बनानें वाला…..
अब तक हम अजांने में 😇Fool day के रूप में अपने नये साल को भूलाते आये हैं. लेकिन अब आप यह जान लेने के बाद निश्चित ही 😀Cool day मनायेगें.
धन्यवाद 🙂
आपको हमारी पाँस्ट कैसी लगी हमें कमेंट करके जरूर बतायें.
अगर आपके पास कोई प्रेरणादायक लेख या कहानी हैं तो हमारी मेल आई डी Merajazbaamail@gmail.com पर लिख भेजिएं. हमें आपके सुझावों का इतंजार रहेगा.
अगर आप चाहते हैं, कि कोई भी नई पाँस्ट पब्लिश होने की सूचना आपको मिलें तो हमारी बेवसाइट को Subscribe जरूर कर लें.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button