जरा हटके

एक पुलिसकर्मी जो देश की सेवा के साथ-साथ देश के भविष्य की भी सेवा करता है

जब भी पुलिस का नाम अपराधी लोग सुनते हैं तो उनमे एक अलग ही खौफ नजर आता है। इसके साथ ही कई ऐसे पुलिसकर्मी भी होते हैं जो अपनी दरियादिली यह सामाजिक कार्यों की वजह से लोगों का दिल जीत लेते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही पुलिसकर्मी की कहानी बताने जा रहे हैं। यह कहानी प्रयागराज में एक पुलिसकर्मी की है जिन्होंने बस्ती के गरीब और जरूरतमंद बच्चों को पढ़ाने का जिम्मा उठाया हुआ है।

इन गरीब बच्चों के माता-पिता छोटे-मोटे काम करके अपने परिवार का गुजारा करते हैं और पेट भरते हैं। ऐसे में खुले आसमान के नीचे यह पुलिस कर्मी पाठशाला चलाते हैं क्योंकि बहुत सारे ऐसे बच्ची होती है जिनके अंदर पढ़ाई का जज्बा होता है लेकिन उनके परिवार वाले उन्हें स्कूल नहीं भेज पाते हैं।

पुलिसकर्मी 

पुलिसकर्मी कांति शरण नौकरी से समय निकालकर बच्चो को पढ़ाते हैं

यह पुलिसकर्मी पिछले 4 साल से जरूरतमंद बच्चों को फ्री में पढ़ाई करवाते हैं। यह पुलिसकर्मी कांति शरण नौकरी से अपना कुछ समय निकालकर इन बच्चो को पढ़ाते है। एस आई कांति शरण ने बच्चो के लिए कुछ करने का सोचा तो उन्हें यह ख्याल आया। इसके बाद उन्होंने इन बच्चो को पढ़ाना शुरू किया।

खबरों के मुताबिक इस पाठशाला में स्लम के बच्चो को बेहद प्रेरणा भी मिली है। इसी के साथ बच्चो में पढ़ाई के प्रति रुचि बढ़ती हुई दिखाई दे रही है। उन बच्चो में से कोई बड़ा होकर टीचर बनना चाहता है तो कोई डॉक्टर कोई इंजीनियर तो कोई पुलिस बनना चाहता है।

दरोगा के इस सहारनिय में पहल की वजह से लोगों को बहुत ही सहायता मिल रही है। पुलिसकर्मी इन बच्चों को सभी जरूरत का सामान भी देते हैं जैसे की कॉपी, किताब, पेंसिल इन सब की मदद भी करते हैं और पूरी तरह से पढ़ाई लिखाई का जिम्मा भी उठाते हैं।

Also Read : आओ ‘दहेज’ को मिलकर जड़ से खत्म करें | दहेज प्रथा -एक कुप्रथा

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button