ज्ञान

क्या आप जानते हैं ट्रेन की आखिरी बोगी पर खींची हुई पीली लाइनों का क्या मतलब होता है

ट्रेन में लगभग सभी लोग सफर करते हैं। रोजाना लाखों की संख्या में लोग यात्रा करते हुए नजर आते हैं। एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए सबसे सस्ती ट्रेन ही मानी जाती है लेकिन ट्रेन पर बहुत सारे ऐसे सिंबल बने हुए होते हैं जिन पर शायद कभी आपका ध्यान भी नहीं गया होगा। अगर आपका ध्यान गया होगा तो आपको शायद उन सिंबल का मतलब नहीं पता होगा।

ऐसे में आज हम आपको एक ट्रेन से जुड़ी हुई बहुत ही रोचक जानकारी देने जा रहे हैं। इसके बारे में शायद आपने अभी तक ध्यान नहीं दिया होगा या सुना भी नहीं होगा। आपने अक्सर ही ट्रेन को देखा होगा ट्रेन की कुछ खास बोगियों पर पीली और सफेद रंग की तिरछी लाइनों का एक डिजाइन बना हुआ होता है। क्या आप जानते हैं कि उनका क्या मतलब होता है अगर नहीं तो आइए हम आपको बताते हैं।

ट्रेन

यह लाइन ट्रेन की जनरल बोगी को दर्शाती है

ट्रेन की कुछ बोगियों पर पीलिया सफेद रंग की तिरछी लाइने दिखाई देती है जो मुख्यत टॉयलेट के ठीक ऊपर बनी हुई होती है। इन बहुत सारी लाइन को ज्यादा तक पैसेंजर ट्रेन के ऊपर बना कोई डिजाइन ही समझते हैं। हालांकि यह एक तरह का संकेत होता है आपकी जानकारी के लिए बता दें कि यह लाइन ट्रेन की जनरल बोगी को दर्शाती है, जिसमें बिना रिजर्वेशन वाले यात्री सफर कर सकते हैं।

हालांकि जर्नल बोगी के ऊपर सामान्य श्रेणी भी लिखा हुआ होता है लेकिन अगर आप किसी कारण से इसे पढ़ नहीं पाते हैं तो इन लाइन के जरिए भी आप समझ सकते हैं कि यह ट्रेन के जनरल कोच है। इसी तरह से इन लाइन के जरिया आरक्षित और अनारक्षित बोगी में भी अंतर पता किया जा सकता है।

इसी के साथ आपको बता दे कि ट्रेन की जनरल बोगी बाकी अन्य बोगियों से अलग होती है। जनरल बोगी में बाकी डिब्बों की तरह दो दरवाजे नहीं होते हैं। इनमें तीन गेट होते हैं। जनरल बोगी के अगले और पिछले गेट के अलावा बीच में भी एक गेट होता है। यह तीसरा गेट यात्री की सुविधा के लिए बनाया जाता है क्योंकि जनरल बोगी में ज्यादा यात्री सफर करते हैं। ऐसे में 3 दरवाजे लोगों के लिए फायदेमंद होते हैं जिससे यात्री आसानी से स्टेशन पर उतर सकते हैं।

Also Read : ट्रेन में चॉकलेट बेचती हुई दादी की वीडियो हो रही है तेजी से वायरल, दादी करती हुई दिखाई दे रही है रोजी रोटी के लिए संघर्ष

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button