जनरल नॉलेज

जानें क्यों दुनिया भर में School Bus का रंग होता हैं पीला

School Bus Yellow Color: हम हर रोज़ अपने आसपास कई रंग देखते हैं, लेकिन कुछ रंग ऐसे होते हैं, जो हमें एक नजर में पसंद आ जाते हैं। क्या आपने कभी गौर किया है कि हर रंग हमें अलग सा महसूस क्यों कराता है? जिस तरह तिरंगे में कुछ चुनिंदा रंगों का प्रयोग किया गया है, ठीक वैसे ही स्कूल बस (School Bus) का रंग पीला ही क्यों होता है? इससे पहले कि आप अपने दिमाग पर ज्यादा ज़ोर दें हम आपको इसका कारण बता देते हैं।

दरअसल, रंगों का हमारी जिंदगी में बहुत महत्व है। हर रंग किसी खास चीज और अलग-अलग इमोशनल को दर्शाता है, जैसे लाल गुलाब प्यार का प्रतीक है तो वहीं पीला गुलाब दोस्ती को दर्शाता है। इसी तरह सफेद रंग शांति का प्रतीक माना जाता है।

School Bus में पीले रंगे का अधिक होता है वेबलेंथ

आपको बता दें, लाल रंग का वेवललेंथ 650 nm होता है, जो अन्य रंगों से सबसे ज्यादा है। यही कारण है कि इस रंग का प्रयोग खतरे के लिए किया जाता है। अब बात करते हैं कि वेवललेंथ के मामले में दूसरे नंबर पर कौन सा रंग है। दूसरे स्थान पर पीला रंग आता है, जिसे स्कूल बस (School Bus) के लिए प्रयोग किया जाता है। वेबलेंथ अधिक होने के कारण हम इसे दूर से ही देख सकते हैं। इसके अलावा भी पीले रंग का बहुत फायदा है।

ये भी पढ़े-  जानें घड़ी के विज्ञापनों में हमेशा क्यों दिखाया जाता 10 बजकर 10 मिनट?

सवाल ये है कि अगर लाल रंग का वेबलेंथ सबसे ज्यादा है तो इसे स्कूल बस (School Bus) के लिए प्रयोग क्यों नहीं किया गया। तो आपको बता दें कि ये रंग पहले ही खतरे का प्रतीक बन चुका था। इसके बाद दूसरे नंबर पर पीला रंग था, जिसे स्कूल बस के रंग के लिए उपयोग किया जाने लगा। 1930 में अमेरिका ने पहली बार स्कूल बस (School Bus) का रंग पीला रखा था, जिसके बाद से अन्य देशों में भी पीले रंग की स्कूल बस (School Bus) चलाई जाने लगी।

School Bus

खास बात तो यह है कि पीला रंग तेज बारिश, घने कोहरे में भी दूर से दिख जाता है। इससे बच्चे सेफ रहते हैं। लाल रंग के मुकाबले पीले रंग का पेरिफेरल विजन 1.24 गुना अधिक बेहतर है। अगर लाल रंग और पीला रंग को एक साथ देखने की कोशिश की जाए तो हमारी नजरें पीले पर पहले पड़ती है।

एक्सीडेंट पर नियंत्रण रखने के लिए भी पीला रंग लाभदायक

स्कूल बस (School Bus) के लिए पीले रंग का उपयोग किए जाने के पिछे एकमात्र कारण नहीं है। बल्कि अगर कोई व्यक्ति इधर-उधर भी देख रहा हो, तो उसे आसानी से पता चल जाएगा कि सामने से स्कूल बस (School Bus) आ रही है। स्कूल बस (School Bus) के एक्सीडेंट पर नियंत्रण रखने के लिए भी पीला रंग लाभदायक है।

स्कूली बच्चों की सेफ्टी को लेकर4rr सुप्रीम कोर्ट ने कई निर्देश जारी किए हैं। इसमें यह भी कहा गया है कि स्कूल बस (School Bus) का रंग पीला ही रखा जाए। साथ ही इन बसों के आगे-पीछे ‘School Bus’ लिखा होना अनिवार्य होगा। इतना ही नहीं, बस पर स्कूल का नाम और फोन नंबर भी नोट करना होगा। बच्चों के स्कूल बस (School Bus) में स्पीड गवर्नर भी लगाया जाता है, जिससे ड्राइवर रफ्तार पर नियंत्रण रख पाते हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button