कारोबार

तीन दोस्तों का कमाल : 2 लाख के बिजनेस से शुरुआत करके आज खड़ी कर दी 75 करोड़ की कंपनी!

बहुत से लोग अपना बिजनेस शुरू करने की बारे में सोचते हैं। इनमें से कुछ लोग ही प्रयास करते हैं और बहुत ही कम लोग अपने बिजनेस को सफल बना पाते हैं। हालांकि ऐसे बहुत सारे उदाहरण है, जहां लोगों ने बिल्कुल मामूली स्तर से शुरुआत करके अपनी मेहनत और लगन के साथ अपने बिजनेस को बहुत सफल बनाया है। हम आपको ऐसी ही एक सफलता के बारे में बताने जा रहे हैं. कॉलेज में एक साथ पढ़ने वाले तीन दोस्तों की यह कहानी है। जिनमें उन्होंने सिर्फ दो लाख रुपए से बिजनेस की शुरुआत करके आज करोड़ों रुपए की कंपनी को खड़ा कर दिया है।

आज हम बात करने वाले हैं ऑनलाइन बेकरी स्टार्टअप कंपनी बेकिंगो की। नई दिल्ली स्थित नेताजी सुभाष यूनिवर्सिटी में पढ़ने वाले तीन दोस्त श्रेय सहगल, हिमांशु चावला और सुमन पात्रा की। यह कहानी काफी प्रेरक है।  सन 2006 में कॉलेज खत्म होने के बाद तीन दोस्तों ने थोड़े समय के लिए कॉर्पोरेट में नौकरी की। इसके पश्चात सन 2010 में उन्होंने अपने पहले वेंचर फ्लावर औरा नाम से शुरुआत की। यह कंपनी केक, फ्लावर और पर्सनलाइज्ड गिफ्ट से जुड़ी ऑनलाइन सुविधाएं देती थी। द वीकेंड लीडर की एक रिपोर्ट में सुमन पात्रा कहते हैं कि गुरुग्राम में एक बेसमेंट से शुरुआत की गई थी।

बिजनेस

वेलेंटाइन ने दिया इस बिजनेस को बूस्ट

महज दो लाख रुपए की पूंजी से फरवरी 2010 में फ्लावर आरा को आरंभ किया गया था। इसकी शुरुआत के 1 साल बाद सुमन इससे जुड़े थे। केवल एक ही कर्मचारी शुरुआत में कंपनी के पास था। जो ऑपरेशन व डिलीवरी मैनेज करने के साथ-साथ कस्टमर सर्विस रिप्रेजेंटेटिव का भी काम करता था। 2010 का वैलेंटाइन डे इस वेंचर के लिए एक बड़ा दिन बनकर सामने आया। उस दिन कंपनी को इतने अधिक आर्डर मिले कि कोफाउंडर्स श्रेय और हिमांशु को भी डिलीवरी देने जाना पड़ा। इसकी सफलता से कुछ और नया करने का भी उन्होंने सोच लिया।

हिमांशु चावला, श्रेय सहगल और सुमन पात्रा ने मिलकर 2016 में नई कंपनी के तहत बेकिंगो नाम से एक अलग ब्रांड को आरंभ किया। बेकिंगो की शुरुआत देश के अलग-अलग लोकेशन पर लोगों को सेम ब्रांड के ताजे केक डिलीवर करने के उद्देश्य से की गई। वर्तमान में यह कंपनी हैदराबाद, बेंगलुरु, दिल्ली एनसीआर जैसे बड़े शहरों के साथ-साथ रोहतक, करनाल, पानीपत और मेरठ जैसे छोटे

शहरों में भी अपनी सुविधाएं दे रही है। कंपनी के 70 फ़ीसदी बिक्री जोमैटो और स्विगी आदि के जरिए तो वही 30 फ़ीसदी बिक्री अपनी वेबसाइट से होती है। बेकिंगो ने 75 करोड रुपए का टर्नओवर 2021-22 में हासिल कर लिया था। 500 से ज्यादा लोग अभी इस कंपनी में काम कर रहे हैं। इसी साल कंपनी ने अपने ऑफलाइन आउटलेट की दिल्ली में शुरुआत की है।

Also Read : Frozen Peas Business : फ्रोजन मटर का बिजनेस कर कमाये लागत के मुकाबले 50 से 80 प्रतिशत तक ज्यादा मुनाफा, नुकसान की भी गुजाइंश नहीं

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button