Strawberry Farming : एक व्यक्ति ने दुबई की नौकरी छोड़कर शुरू की स्ट्रॉबेरी की खेती आज कर रहा है लाखों की कमाई

Strawberry Farming

Strawberry Farming : एमबीए करने के बाद अक्सर युवक मल्टीनैशनल कंपनी में नौकरी करने के लिए निकल पड़ते हैं। विदेशों में अच्छी नौकरी मिल जाए इससे बड़ी क्या बात हो सकती है। सीतापुर के रहने वाले नवीन मोहन राजवंशी ने ऐसा ही किया था। नवीन AMIT कॉलेज चेन्नई से एमबीए करने के बाद उन्होंने बिजनेस डेवलपमेंट मैनेजर के पद पर नौकरी प्राप्त करें और वह दुबई चले गए।

नौकरी करते हुए नवीन दुबई में किसी फार्म पर विजिट करने जाते थे और देखते थे कि यहां के रेगिस्तान में अच्छी-अच्छी फसलें लहलहा रही हैं। यहीं से नवीन के मन में खेती करने की दिलचस्पी बढ़ने लगी। उन्होंने भारत लौटने का मन वापिस बना लिया 2020 में कोविड-19 में वह वापस लौट आए उन्होंने सीतापुर कृषि विज्ञान केंद्र की मदद से आधुनिक तकनीक से साबरी की खेती करने की ट्रेनिंग ली।

Strawberry Farming

Strawberry Farming : खेत की पहले अच्छे से जुताई की जाती है

नवीन ने बताया कि खेत की पहले अच्छे से जुताई की जाती है। इसके बाद खाद बनाई जाती है। इस खाद को अच्छे तरीके से पूरे खेत में डाला जाता है, फिर 2 दिन के लिए इसे छोड़ दिया जाता है और पानी डाला जाता है ताकि पौधों को संतुलित मात्रा में पानी मिलता रहे।

1 एकड़ जमीन में 20000 पौधों को एक 1 फीट की दूरी पर लगाया जा सकता है। इसका फायदा यह होता है कि पौधों में फंगस की समस्या नहीं आती है। इनकी देखभाल भी अच्छे से की जाती है इसके अलावा उत्पादन 1 एकड़ में 150 से 160 कुंतल होता है। मगर लागत की बात की जाए तो 1 एकड़ से पहले साल में ड्रिप को मिलकर ₹300000 की लागत लगाई जाती है। कुछ महीने में यह आमदनी दोगुनी होकर वापस मिल जाती है मतलब कि ₹300000 के ₹600000 से भी अधिक की आमदनी होती है।

Strawberry Farming : सटॉबेरी की फसल के बीच में गेंदे के पौधे

सटॉबेरी के साथ साथ नवीन ने सटॉबेरी की फसल के बीच में गेंदे के पौधे भी लगाए थे। उन्होंने गेंदे के फूलों से ₹50000 की आमदनी प्राप्त की। गेंदे की फसल खत्म होते ही उन्होंने खरबूजा भी लगाया था। जब तक खरबूजा तैयार हुआ तब तक सटॉबेरी खत्म हो गई। 1 एकड़ खरबूजे का और स्थान उत्पादन 160 से 170 क्विंटल होता है।

नवीन राजवंशी ने यह भी बताया कि पहले उनके गांव के लोग रोजगार की तलाश में शहर की तरफ जाते रहते थे, परंतु जब से हमने गांव में स्टेबबेरी की खेती की शुरुआत की है तब से गांव के दो दर्जन लोगों को रोजगार मिल चुका है।

Also Read : Farming : इस व्यक्ति ने सरकारी नौकरी छोड़ शुरू कर दी खेती आज का राज 4000000 रुपए सालाना टर्नओवर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *