कैसे हुई Hyundai कम्पनी की शुरूआत - जानिये पूरी कहानी

आज हुंडई की कारें जैसे - Hyundai Verna/Creta/Grand/Tucson दुनियॉ भर में मशहूर हैं | मगर 'Hyundai' कम्पनी को बनाने में 'चुंग'...

आज हुंडई की कारें जैसे - Hyundai Verna/Creta/Grand/Tucson दुनियॉ भर में मशहूर हैं | मगर 'Hyundai' कम्पनी को बनाने में 'चुंग' को कई चुनौतियों और समस्याओ का सामना करना पड़ा |
हम बात कर रहे हैं 'साउथ कोरिया' की मल्टीनेशनल कम्पनी 'हुंडई' के बारे में.... जिसकी शुरूआत 'चुंग-जू यंग' ने की | 'चुंग' ने  अपने जीवन मे बहुत सघंर्ष किया | लेकिन आज उनकी कारो ने लोगों का दिल जीत लिया हैं |


25 Nov 1915 में 'चुंग-जू यंग' का जन्म बहुत ही गरीब परिवार में हुआ था | 'चुंग' के पिता गरीब किसान थे |
'चुंग' सात भाई - बहनों में सबसे बड़े थे | गरीबी की वजह से 'चुंग' बचपन में लकड़ी बेचने का काम किया करते थे | उनका सपना था कि वो अध्यापक बनें | मगर जब घर में कुछ खाने के लिए न हो तो बड़े - बड़े सपने छोटे पड़ने लगते हैं | फिर भी उन्होने अपनी प्राथमिक की पढ़ाई मेहनत- मजदूरी करके पूरी की | गरीबी के कारण उन्हे बचपन से ही काफी मेहनत करनी पड़ी | लेकिन एक समय पर 'चुंग' अपनी गरीबी से बहुत परेशान हो गये | वो इतने परेशान हो गये कि अपनी 16 साल की उम्र में ही अपने घर 'असान' से 24 किमी दूर  एक गाँव में चले गये और वहॉ मजदूरी करने लगें | वो जिस हिसाब से काम करते थे उस हिसाब से उन्हें पैसे नहीं मिलते थे | फिर भी वो खुश होकर काम करते थे | उन्हे इस बात की खुशी थी कि वो खुद से पैसे कमा रहें थे | दो महिने काम करने के बाद उनके पिता उन्हे जबरदस्ती घर ले आयें | 'चुंग' घर पर आते ही फिर से भागने की प्लानिंग करने लगें | इस बार दो दोस्तों के साथ 'सियोल' भागने का प्लान बनाया | उनके घर से भागने का प्लान यह था कि कैसे भी करके घर की गरीबी दूर करनी हैं | जिस वजह से वो सन् 1933 में दूसरी बार अपने घर 'असान' से 'सियोल' भाग गये | मगर उनका एक दोस्त पहले ही पकड़ा गया | मगर फिर भी उन्होने अपना मन नहीं बदला और 'चुंग' तथा उनका दूसरा दोस्त दोनों 'सियोल' चले आये | इधर 'चुंग' के पिता उन्हे खोजने में लगे हुए थे | 'चुंग' के दोस्त को एक अंजान आदमी मिला, जिसने उन्हें नौकरी दिलाने का भरोसा देकर उनसे सारे रूपये ले लिये और वहाँ से चला और फिर लौटकर वापस नहीं आया | कुछ भी पास में पैसे नहीं थे और न कहीं कोई पहचान थी इसलिए इस बार फिर से 'चुंग' को वापस अपने घर आना पड़ा | अब इस बार शांति से 'चुंग' अपने पिता के साथ खेती का काम करवाने लगे | लेकिन घर से भागने के प्लान अब भी जारी था | अपने पिता के साथ कुछ दिन काम करने के बाद उन्होने पूरी तरह मन बना लिया घर से भागने का.........|
इस बार वो train से 'सियोल' जाना चाहते थे | इसके लिए 'चुंग' ने अपने पिता की एक गाय को बेच दिया | उन्हे गाय के बदले 70 'वोन' मिले | 'वोन' 'साउथ कोरिया' की करेंसी हैं | वहॉ जाकर book keeping का काम करने लगे | मतलब छोटे - मोटे transaction को maintain किया करते थे | उनके काम करने का यह उद्देश्य था कि वो छोटे - मोटे Accounted बन जाएंगे |
और life थोड़ी अच्छी हो जाएंगी | सब कुछ ठीक चल रहा था मगर उनके पिता ने उन्हे फिर से ढुढ़ लिया और वो फिर से 'चुंग' को घर ले आयें | अब 'चुंग' को घर से नफरत सी होने लगी थी | वो अब एक पल भी घर नहीं रहना चाहते थे |  लेकिन बार - बार कोशिश करने के बावजूद वो कुछ नहीं कर पा रहें थे |

Must Read: बाज से सीखें पुनस्थार्पित होना - एक हिंदी कहानी जो सफल होने में मदद करेगी 

         इस बार फिर पक्का इरादा करके 'सियोल' पहुँचकर 'Incheon harbor' पर मजदूरी करने लगें | वहॉ से फिर 'Boseong professional school' में construction का काम करने लगे | फिर कुछ दिन करने के बाद ही वो 'starch syrap factry' में काम करने लगें | पर यहां भी वो ज्यादा दिन काम नहीं कर पायें | फिर उन्होने 'Bokheang rice store' में डिलेवरी का काम किया | जिसमे वो चावल को इधर से उधर पहुँचाते थे | उन्हे कम्पनी की तरफ से एक रूम भी मिल गया था | अब 'चुंग' ने ठान लिया था कि अब यहीं पर रहकर काम करना हैं | करीब 6 महिने  काम करने के बाद उनके मालिक ने 'चुंग' का अच्छा काम देखकर उनका promotion कर दिया और वो rice store में Accounted का काम करने लगें | सन् 1937 में उनके मालिक की तबियत बहुत खराब हो गई | इस वजह से 'चुंग' को अपने store का आँनर बना दिया | 22 साल की उम्र में 'चुंग' ने store का नाम बदलकर 'K Yonggil rice store' रख दिया |
सब कुछ अच्छा चल रहा था | सन् 1939 में 'चुंग' अपने store से जापान और जापान की आर्मी को अच्छे दामों पर चावल सप्लाई किया करते थे इसलिए उनकी कमाई अच्छी हो जाती थी | लेकिन जब यह बात 'साउथ कोरिया' सरकार को मालूम चली तो सरकार ने  'चुंग' पर 'rice rationing system' का आरोप  लगाकर store पर कब्जा कर लिया |

Must Read: कैसे बनें- Smarter Faster Better - ये लेख आपको जीवन में आगे बढ़ने में प्रेरित करेगी 

'चुंग' की सारी मेहनत एक झटके में तबाह हो चुकी थी ऐसे में वो सब कुछ छोड़कर वापस घर आ गये | वो सन् 1940 तक घर पर ही रहें | मगर 'चुंग' यह बात अच्छी तरह जानते थे कि घर बैठकर कुछ नहीं हो सकता और इतनी कोशिश तथा काम करने का बाद हार मान ली जाएँ | तो यह बेवकूफी होगी |  फिर उन्होनें खुद से वादा किया कि जब तक मंजिल नहीं मिलेगी तब तक वो मेहनत और प्रयास करते रहेंगे |
वो घर से 'सियोल' वापस आ गये और Auto-mobile repairing  का business करना चाहते थे इसलिए उन्होनें अपने दोस्त से एक गैरिज खरीद ली |
ताकि उसमें गाड़ियों की repairing कर सकें |
उन्होनें इस काम को शुरू करने के लिए बैंक से 3000 रूपये का लोन ले लिया | गैरिज का काम अच्छा चलने लगा | अगले तीन साल में 60 से 70 आदमी काम करने लगें | 'चुंग' की कमाई अच्छी होती जा रही थी | लेकिन सन् 1943 में जापानी सरकार ने 'चुंग' के गैरिज को steel plant में करवा दिया | उस समय 'Colonial' की सरकार थी | वो जो चाहती वह कर सकती थी | 'चुंग' ने अंदाजा लगा लिया कि यह गैरिज भी बर्बाद हो जाएंगा | इसलिए वो सब कुछ छोड़कर फिर से घर आ गये | तभी उस समय 'साउथ कोरिया' और 'जापान' के बीच युद्ध छिड़ गया |  जिससे देश में तबाही मच गई , और पूरा 'साउथ कोरिया तबाह हो गया | सब कुछ खत्म हो जाने के बाद साउथ कोरियन सरकार को जरूरत होती हैं ऐसे लोगो की, जो देश को फिर से खड़ा कर सके | क्योकि देश में लड़ाई की वजह से सब कुछ बर्बाद हो गया था | इसलिए नये business man को सरकार ने खुद मदद करने का आँफर दिया | इस प्रकार 'चुंग' ने ज्यादा देरी न करते हुए 'Hyundai' कम्पनी की शुरूआत की | इस कम्पनी की मदद से 'चुंग' बहुत सारे construction किया करते थे | जैसे - सन् 1967 में 'सोएग डेम' को बनाया तथा सन् 1970 में Express way को बनाया | फिर Ship yard को बनाया , जहॉ बड़े-बड़े जहाज खड़े किये जाते हैं | कई न्युक्लियर प्लाट बनाये | और भी बहुत सी चीजें अपने देश के लिए बनाया करते थे | और finally बाद में 'Hyundai Car' industry में काम किया | आज 'Hyundai' भी और कम्पनीयों की तरह 70 से ज्यादा business कर रही हैं |

Must Read : खुद को प्रेरित करने के 7 आसान तरीके - Inspirational Hindi Article

'चुंग' चाहते तो घर पर आराम से बैठ जाते, पर उन्होनें ऐसा नहीं किया | उनका घर से बार - बार भागना लोगों के लिए मजांक बन गया था | लेकिन उनका घर से बार-बार भागने का मतलब कुछ बड़ा करने की चाहत थी | कई बार असफल होने के बावजूद उन्होने हार नहीं मानी | वो बार - बार कोशिश करते रहें और आखिर में उन्हें सफलता हाथ लगी |

आपको हमारी पॉस्ट पसंद आई हो तो हमें कमेंट बॉक्स में बतायें तथा अपने दोस्तों मे शेयर करें | हमें अपने सुझाव दें , क्योकि आपके सुझाव हमारे लिए महत्वपूर्ण हैं | हमें आपके like से पता चलता हैं कि आपको हमारी पॉस्ट पसंद आ रहीं हैं |
यदि आपके पास भी कोई प्रेणादायक लेख या कोई inspirational story हैं जिसे आप दुसरो तक पहुँचाना चाहतें हैं तो आप हमें अपना नाम और photo के साथ हमें merajazbaamail @gmail.com पर लिख भेजिएं | पॉस्ट पसंद आने पर हम यहॉ पब्लिश करेगें |

                                            धन्यवाद

COMMENTS

You May Also Read$type=carousel

Name

Biography,2,Blogging,2,Business,2,Chanakya,1,Discovery,1,Festival in Hindi,1,Google,1,Health,1,Hindi Story,4,Holi,1,Inspirational Article in Hindi,7,Love,1,Mera Jazbaa,30,Miscellaneous,4,Motivation,14,Motivational Story in Hindi,6,Personal Development,17,Poem,1,Poetry,1,Quotes,3,Relationship,1,Self Help,15,Story,4,Success,17,Valentine's Day in Hindi,1,Youth,1,अनोखी बातें,1,उत्सव,1,कविता,1,खोज,1,जीवन परिचय,1,थॉट्स,1,प्यार,1,प्रेरक कथा,3,ब्लॉगिंग,2,वैलेंटाइन डे,1,व्यापार,1,सफलता,15,सुविचार,2,सेहत,1,हिंदी कहानी,5,
ltr
item
MeraJazbaa.com: कैसे हुई Hyundai कम्पनी की शुरूआत - जानिये पूरी कहानी
कैसे हुई Hyundai कम्पनी की शुरूआत - जानिये पूरी कहानी
https://1.bp.blogspot.com/-Bt5bdcnbsmU/WpTrSylVs4I/AAAAAAAAAEI/VpbmMZR0T0Iv21B_tC4gSubNkQDUBuChwCLcBGAs/s400/hyundai-success-story-in-hindi.jpg
https://1.bp.blogspot.com/-Bt5bdcnbsmU/WpTrSylVs4I/AAAAAAAAAEI/VpbmMZR0T0Iv21B_tC4gSubNkQDUBuChwCLcBGAs/s72-c/hyundai-success-story-in-hindi.jpg
MeraJazbaa.com
https://www.merajazbaa.com/2018/02/hyundai-full-story-in-hindi-Hyundai-Company-Success-Story.html
https://www.merajazbaa.com/
https://www.merajazbaa.com/
https://www.merajazbaa.com/2018/02/hyundai-full-story-in-hindi-Hyundai-Company-Success-Story.html
true
8369013042356023338
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy